महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति में भेदभाव

महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति में भेदभाव
Bhaskar News Network | Mar 18, 2015, 04:30:14 AM IST
AAA
अजमेर|राजस्थान शिक्षकसंघ (सियाराम) ने सीएम वसुंधरा राजे आैर शिक्षा राज्यमंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी से मुलाकात कर महिला व्याख्याताओं के साथ हो रहे भेदभाव की आेर ध्यानाकृष्ट किया है। प्रदेश संरक्षक सावित्री शर्मा ने बताया शिक्षामंत्री के सकारात्मक प्रयासों से शिक्षकों की पदोन्नति का कार्य तेजी से किया जा रहा है, लेकिन इसमें महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति में भेदभाव किया जा रहा है।

राज्यभर में पुरुष महिला की एक ही वरिष्ठता सूची बनाई जाती है। पदोन्नति के बाद प्रधानाचार्य पद पर नियुक्त किए जाते समय वर्ष-1998 के नियमानुसार महिला प्रधानाचार्य को बालिका विद्यालय में ही लगाया जाएगा लेकिन प्रदेश में बालिका विद्यालयों की संख्या कम है, इस वजह से महिलाएं पदोन्नति में पिछड़ रही हैं। महामंत्री बृजेंद्र शर्मा ने कहा कि पुरुष व्याख्याताओं की पदोन्नति 1994-95 तक हो चुकी है, जबकि महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति वर्ष 90-91 तक ही हो सकी है।

पदोन्नति का मिला आश्वासन

प्रदेश प्रवक्ता जगदीश प्रसाद शर्मा ने बताया कि शिक्षकों का शिष्टमंडल इस मुद्दे को लेकर शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी से मिला था। शिक्षामंत्री ने महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति की समस्या को गंभीरता से लिया। उन्होंने कॉमन वरिष्ठता सूची के आधार पर पुरुष महिला व्याख्याताओं की पदोन्नति छात्र आैर छात्राओं के विद्यालयों का वर्गीकरण किए बिना ही पदोन्नति समान रूप से दिलाने का आश्वासन दिया

SHARE

Resla Raj

Hi. ’Express you views..

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment