67: 33 ही सही चिकित्सा मंत्री राजेंद्र राठौड़ !

अपने 47वे प्रांतीय सम्मलेन में राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ ने अपने हितों के लिए जारी लम्बे संघर्ष में युवा एवं ऊर्जावान अध्यक्ष मोहन सिहाग व प्रदेश कार्यकारिणी के नेतृत्व में एक बड़ी जीत हासिल की है. इस सम्मेलन में प्रदेश भर से आये हुए हजारों प्राध्यापकों ने भाग लिया व अपनी बात रखी.जिलाध्यक्ष श्री गंगानगर डॉ. नगेन्द्र कौर ने रेसा के अन्याय का जिक्र करते हुए कहा कि राजस्थान शिक्षा सेवा नियमों के अनुसार रेसा द्वारा षडयंत्र के तहत कॉमन सीनियरटी को न मानकर मिलीभगत से  अवांछित लाभ लिया गया जो प्राध्यापकों के हितों को भारी नुकसान पहुंचा रहा है.  चिकित्सा मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने प्राध्यापकों से पूरी लगन एवं मेहनत से कार्य करने की नसीहत दी तथा प्राध्यापकों की संख्यात्मक आधार पर पद्दोन्ति की मांग को सही मानते हुए शीघ्र ही इसे लागू करने का आश्वासन दिया. उन्होंने इस बात को माना की प्राध्यापकों के साथ अन्याय हुआ है तथा ये सरकार अब ऐसा नहीं होने देगी. प्रदेशाध्यक्ष मोहन सिहाग ने इसे व्याख्याताओं की जीत बताया तथा व्याख्याताओं से और भी अधिक जी जान से काम करने का आवाहन किया.  इस अवसर पर विभिन्न पदाधिकारियों ने अपने अपने विचार भी रखे. डा डी डी गौतम ने संघर्ष की यात्रा बताई तथा महामंत्री प्रमोद मिश्रा ने प्राध्यापक संकल्प पत्र पर चर्चा की. श्री महेश सोनी ने रेसला को रचनात्मक व सामाजिक सरोकार बढ़ाने की बात कही। इस अवसर पर प्रदेश वेब साइट प्रभारी पंकज जांगिड ने सभी व्याख्याताओं से तकनीक व सूचना के युग में नवाचार शिक्षण की बात कही।  साथ ही इस अवसर पर व्याख्याताओं की अभिव्यक्ति एवं रचनात्मक कला हेतु लेखन के क्षेत्र में मौलिक रचनाओं हेतु वेब साइट पर ई मैगज़ीन पृष्ठ शुरू करने की घोषणा की। महामंत्री प्रमोद मिश्रा ने रेसला इकाई झुंझुनू को इस सफल व शानदार आयोजन के लिए बधाई दी.
SHARE

Resla Raj

Hi. ’Express you views..

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment