सभी 33 जिला अध्यक्षों द्वारा मुख्यमंत्री को जिला क्लैक्टर के माध्यम से दिया जाने वाला ज्ञापन

SHARE

Resla Raj

Hi. ’Express you views..

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

2 comments:

  1. इस ज्ञापन में त्रुटियां हैं। इसका संशोधन करके दिया जाए। बात आगे तक पहुँचाई जाए।

    ReplyDelete
  2. facebook lecturer group se liya gaya hai.

    Raakesh Goswami
    लेक्चरर्स साथियों के लिए सन्देश
    अधोलिखित तथ्य राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 मे स्पष्ट अंकित है और अन्य भावनाये मेरी अपनी है यदि इस यथार्थ से किसी की आघात लगता है तो में क्षमाप्रार्थी हूँ.
    लेक्चरार के हित एवम् पदोन्नति के प्रति रेसला और सरकार दोनों ही संवेदनहीन हो गए है. ‘रेसला’ के प्रांतीय पदाधिकारी प्रिंसिपल पद “ग्रुप ‘D II’ के कुल रिक्त पदों के 50 प्रतिशत पदों पर हेडमास्टर, सेकण्डरी ग्रुप ‘F’ से और 50 प्रतिशत पदों पर लेक्चरर, सीनियर सेकण्डरी ग्रुप ‘F’ से पदोन्नति को स्वीकार कर रहे है और इस काल्पनिक नियम को ज्ञापन में भी अंकित कर रहे है अर्थात हेडमास्टर, सेकंडरी स्कुल के संगठन ‘रेसा’ की भाषा बोल रहे है और इसी प्रकार सरकार ने भी पदोन्नतिया के है इसीलिए तो राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 मे स्थापित नियम की अवहेलना को छुपाने के लिये पदोन्नति में 67:33 का आश्वासन दे रही है. आश्चर्य है कि प्रांतीय पदाधिकारियों को राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 के नियम कायदों की गहराई का भी ज्ञान नहीं है. जो पदाधिकारी लेक्चरर्स के प्रांतीय नेतृत्व का दम्भ भरते है उन्हें यह भी मालूम नहीं की वे हेडमास्टर, सेकंडरी स्कुल वर्ग के संगठन ‘रेसा’ द्वारा गढ़े गए “काल्पनिक और मनगढ़ंत” नियम का अप्रत्यक्ष समर्थन कर रहे है जिसका राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 में कही भी अस्तित्व नहीं है. कृपया ध्यान दे -
    राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 मे स्पष्ट अंकित है के ग्रुप ‘E’ अर्थात हेडमास्टर, हायर सेकण्डरी अथवा वरिष्ठ उप जिला शिक्षा अधिकारी अथवा उपाचार्य या अन्य समकक्ष पद के कुल रिक्त पदों के 50 प्रतिशत पदों पर ग्रुप ‘F’ के (हेडमास्टर, सेकण्डरी स्कुल के पदों में से और 50 प्रतिशत पदों पर लेक्चरर, सीनियर सेकण्डरी के) पदों में से पदोन्नति की जाती है. जबकि . . .
    राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 मे प्रधानाचार्य (प्रिंसिपल), के पदों पर पदोन्नति का एकमात्र नियम है नियम 28 उपनियम 7 है जिसमे स्पष्ट अंकित है कि “ग्रुप ‘D II’ प्रधानाचार्य (प्रिंसिपल), सीनियर सेकण्डरी के पदों पर पदोन्नति के लिए ग्रुप ‘E’ एवम् ग्रुप ‘F’ में वर्णित पदों पर नियुक्त व्यक्तियों की सामान्य (Comman) वरिष्ठता उनकी संस्थायी नियुक्ति की तारीख में संदर्भानुसार अवधारित की जानी चाहिए.”
    यदि मैरे द्वारा दिए गए तथ्य असत्य अवम मिथ्या लगे तो जिस प्रकार मैने मय प्रमाण तथ्यों को स्पष्ट किया है उसी प्रकार ‘रेसला’ के प्रांतीय पदाधिकारी भी अपने ज्ञापन में अंकित तथ्य को उद्धरण सहित स्पष्ट करें जिससे हम सभी आपका समर्थन कर सके अन्यथा निर्णय राजस्थान के लेक्चरार को करना है . . .
    Like · · Follow Post · 9 hours ago

    Seen by 21
    Prakash C Joshi, Ashwini Kumar Pareek, Yogesh Vyas and 2 others like this.
    Girish Lata very nice
    9 hours ago · Like · 1
    Rakesh Sethi Aap ke saath pure samarthan me khade h
    9 hours ago via mobile · Like · 2
    Kapil Bhargava Rakesh ji aap aur prakash ji kahte to ho par nirnay karne ki shamta nahin hain agar aap ko lagta hai resla galat hain to chodo unka saath aur hamare saath aao prakash ji aur rajput ji ko pata hain hamari shamtayen
    8 hours ago · Like · 1
    Prakash C Joshi राकेश जी, आपने सटीक लिखा है। अगर किसी को गलत लगता है तो उसे यहाँ अपना पक्ष रखना चाहिए। हमारे द्वारा 2008 में बनाई गई रेसला की वेबसाइट http://resla.org तो पिछले दो वर्षों से बंद पड़ी है। अतः आम प्राध्यापकों तक कोई समाचार पहुँच नहीं पा रहा है। इस मंच पर अ...See More
    ResLA.org: The Leading Res LA Site on the Net
    resla.org
    8 hours ago via mobile · Like
    Prakash C Joshi कपिल भार्गव जी, जो हमारी इस कॉमन सीनियरटी की बात को उठाएगा हम उनके साथ है। चाहे वो कोई भी संगठन क्यों नहीं हो? अगर कोई भी संगठन इस पर कार्यक्रम करता है तो हमारा पूरा समर्थन है।
    8 hours ago via mobile · Like · 1
    Kapil Bhargava hum to kahtey aap netratva karo kyonki aap ne lambe samay kaam kiya hain
    8 hours ago · Like · 2
    Kapil Bhargava aap ko koi MLA KA ticket to chahiye nahin
    8 hours ago · Like · 1
    Prakash C Joshi नहीं कपिल जी, मुझे कोई टिकट नहीं चाहिए। LOL...
    8 hours ago via mobile · Like

    ReplyDelete